RKant
A solo, offbeat and responsible blog run by Rkant, voted among the best bloggers in world.

दिल्ली के कई अस्पतालों में सिर्फ कुछ घंटों का ऑक्सीजन बाकी, जल्द मदद करे केंद्र सरकार: केजरीवाल

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि प्रदेश के अस्पतालों के पास सिर्फ कुछ ही घंटों का ऑक्सीजन बाकी है.

ट्वीट कर मुख्यमंत्री ने कहा, ‘दिल्ली में ऑक्सीजन की घोर कमी बनी हुई है. कुछ अस्पतालों के पास केवल कुछ ही घंटों के इस्तेमाल योग्य ऑक्सीजन बची है.’

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने केंद्र सरकार से राष्ट्रीय राजधानी को तत्काल ऑक्सीजन मुहैया कराने का अनुरोध किया है.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट कर ऑक्सीजन सप्लाई की कमी की जानकारी दी.

सिसोदिया ने कहा, ‘दिल्ली में अधिकतर अस्पतालों में केवल अगले 8 से 12 घंटे के लिए ही ऑक्सिजन उपलब्ध है. हम एक हफ्ते से दिल्ली को ऑक्सीजन सप्लाई कोटा बढ़ाने की माँग कर रहे हैं जोकि केंद्र सरकार को करना है. अगर कल सुबह तक पर्याप्त मात्रा में अस्पतालों में ऑक्सिजन नहीं पहुंची तो हाहाकार मच जाएगा.’

उन्होंने कहा, ‘ऑक्सीजन को लेकर सब अस्पतालों से एसओएस फोन आ रहे हैं. सप्लाई करने वाले लोगों को अलग-अलग राज्यों में रोक दिया जा रहा है.’

सिसोदिया ने कहा, ‘ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर राज्यों के बीच जंगलराज न हो, इसके लिए केंद्र सरकार को बेहद संवेदनशील और सक्रिय रहना होगा.’

बता दें कि आज ही केंद्र सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट को जानकारी दी कि दिल्ली में ऑक्सीजन की आपूर्ति की कोई कमी नहीं है और कुछ उद्योगों को छोड़कर ऑक्सीजन के अन्य तरह के औद्योगिक इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है.

केंद्र ने हाई कोर्ट को यह जानकारी भी दी कि उसने दिल्ली सरकार के अस्पतालों को करीब 1,390 वेंटिलेटर मुहैया करवाए हैं.

दिल्ली समेत देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने काफी बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित किया है. देश में रोज संक्रमण के मामलों में वृद्धि हो रही है और मौत का आंकड़ा भी लगातार बढ़ रहा है.

दिल्ली सरकार ने कोरोना की मौजूदा स्थिति को देखते हुए छह दिनों का लॉकडाउन लगा दिया है जो सोमवार रात से प्रभावी है.


यह भी पढ़ें: दिल्ली में ऑक्सीजन आपूर्ति की कोई कमी नहीं, औद्योगिक इस्तेमाल पर रोक: केंद्र ने दिल्ली HC को बताया


 

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: