RKant
A solo, offbeat and responsible blog run by Rkant, voted among the best bloggers in world.

पसंद न आने वाले फोलोअर्स को अब हटा सकेंगे यूजर्स, ट्विटर के नए फीचर में और क्या है खास

नई दिल्ली: अमेरिका की सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर अपने यूजर्स के लिए एक नया फीचर लेकर आई है. नए फीचर के तहत यूजर्स उन फोलोअर्स को खुद हटा सकते हैं जिन्हें वो पसंद नहीं करते. ऐसा करने पर हटाए गए फोलोअर को नोटिफिकेशन नहीं जाएगा.

मंगलवार से ये नया फीचर दुनियाभर के यूजर्स के लिए उपलब्ध हो गया है. हालांकि, ट्विटर मोबाइल एप पर ये अभी उपलब्ध नहीं होगा बल्कि इसे सिर्फ वेब वर्जन पर ही इस्तेमाल किया जा सकेगा.

अभी तक फोलोअर्स को हटाने के लिए ट्विटर ने कोई फीचर नहीं दिया था. ऐसा करने के लिए पहले सिर्फ ब्लाक का ऑप्शन ही उपलब्ध था.

नए फीचर के साथ यूजर के पास ज्यादा ऑप्शन होंगे और वो अपने तरीके से फोलोअर सूची को रख सकता है.

टेक वेबसाइट द वर्ज ने इस नए फीचर को ‘सॉफ्ट ब्लाक’ बताया है. ये ठीक उसी तरह काम करेगा जैसा कि ब्लाकिंग फीचर करता है लेकिन इसमें ब्लाक किए गए यूजर को जानकारी नहीं मिलेगी. ब्लाकिंग फीचर में फोलोअर को तभी पता चलता था जब वो फोलो किए गए ट्विटर प्रोफाइल को खोलता था.

ब्लाकिंग फीचर से अलग, जिन फोलोअर को सूची से हटाया जाएगा वो फिर भी ट्वीट्स को देख सकेंगे और यहां तक कि मैसेज भी कर पाएंगे. हालांकि ट्वीट उनके टाइमलाइन पर नहीं दिखेंगे.

नए फीचर के तहत यूजर फिर से आपको फोलो कर सकता है, भले ही आपने उसे अपनी सूची से हटा दिया हो.


यह भी पढ़ें: ‘कोविड खत्म नहीं हुआ’- मोदी सरकार ने दिल्ली में छठ पूजा के लिए अलग गाइडलाइन्स जारी करने से मना किया


एप पर दिए गए अन्य फीचर

ट्विटर ने नए फीचर से उम्मीद जताई है कि इससे यूजर्स का सही इंटरेक्शन होगा.

1 सितंबर को ट्विटर ने कहा था कि वो सेफ्टी मोड फीचर का टेस्ट कर रही है.

इस मोड के चालू होते ही, ट्विटर खुद से सात दिनों के लिए उन अकाउंट्स को ब्लॉक कर देगा जिसके जरिए ‘अपमान या घृणित टिप्पणी’ की गई हो या ऐसा करने के लिए आमंत्रित किए बिना बार-बार ट्वीट का जवाब दिया गया हो.

फीचर के बारे में ट्विटर ने कहा था, ‘हमारे सिस्टम ट्वीट की सामग्री और ट्वीट लेखक और उत्तरदाता के बीच संबंध दोनों पर विचार करके नकारात्मक जुड़ाव की संभावना का आकलन करेंगे. हमारी तकनीक मौजूदा रिश्तों को ध्यान में रखती है, इसलिए जिन खातों को आप फोलो करते हैं या जिनके साथ आप अक्सर बातचीत करते हैं, उन्हें ऑटोब्लॉक नहीं किया जाएगा.’

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: हाथरस से लखीमपुर तक सिर्फ BJP की गलतियों की ताक में विपक्ष, तय नहीं कर पा रहा एजेंडा


 

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: