RKant
A solo, offbeat and responsible blog run by Rkant, voted among the best bloggers in world.

योगी सरकार पर कांग्रेस का हमला, लोग तड़प-तड़प कर मर रहे हैं, CM कुंभकर्णी नींद सो रहे हैं

लखनऊ: कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि यूपी में योगी सरकार कोविड से हो रही मौतों को छिपाने का प्रयास कर रही है. कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया कि आंकड़े और जमीनी हकीकत में बहुत फर्क है.

यूपी में प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने गुरुवार को कहा, ‘सरकारी आंकड़ें जो दिए जा रहे हैं जिसमें कल लखनऊ में 13 लोगों की मौत, गाजियाबाद में 6 लोगों की मौत दिखाया गया है.’

सूबे में महज प्रतिदिन मरने वालों की संख्या लगभग 200 बताई जा रही है. जबकि स्थिति बिलकुल विपरीत है. वह आगे कहते हैं ‘गाजियाबाद में श्मशान घाट पर बोर्ड लगा दिया गया कि जगह नहीं है. लखनऊ में सैंकड़ों मौतें हो रही हैं. भैंसाकुण्ड, गुलालाघाट सहित तमाम अन्य जगहों पर दाह संस्कार हो रहे हैं और ये आंकड़ों में कम दिखाया जा रहा है. कानपुर, वाराणसी का भी यही हाल है.’

लल्लू ने कहा, ‘मुख्यमंत्री बार-बार कह रहे हैं कि आक्सीजन, बेड, वेंटीलेटर, रेमडिसिविर इंजेक्शन की कमी नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री एक व्यक्तिगत नम्बर जारी करें जो टीवी और मीडिया में प्रसारित, प्रकाशित हो और जो उनके ट्विटर हैंडिल से ट्वीट हो तथा जो अधिकारी उनको यह बता रहे हैं कि यूपी में किसी चीज की कोई कमी नहीं है उनका भी नम्बर जारी करें, ताकि स्थिति पूरी तरह स्पष्ट हो सके कि यूपी के हालात कितने भयावह हो चुके हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘मुख्यमंत्री झूठ बोलना बंद करें, विपक्ष के साथ साथ लोगों को धोखा देना बंद करें.’

35000 नए बेड जोड़े जाएंगे-योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि आज सूबे में COVID19 के 2,25,000 से अधिक टेस्ट किए गए हैं. राज्य में एक्टिव मामले लगभग 3,09,000 हैं.’

सीएम ने यह भी कहा, ‘हम राज्य में 35,000 नए बेड जोड़ रहे हैं. मेरा सुझाव है कि हर जिले में आयुष की एक टीम होनी चाहिए ताकि लोगों को उनके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए जागरूक किया जा सके.’

यूपी की स्थिति पर और कांग्रेस के आरोपों का खंडन करते हुए स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने दिप्रिंट से कहा, ‘ सरकार अपना पूरा प्रयास कर रही है. स्थितियों में सुधार हुआ है. प्रदेश में अब ऑक्सीजन की कमी नहीं है. वहीं जो ब्लैक मार्केटिंग कर रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.’

यूपी में 35,156 नए संक्रमित केस मिले हैं. हालांकि इस दौरान पिछले 24 घंटे में 25,613 लोग संक्रमण से ठीक होकर अस्पतालों से डिस्चार्ज हो गए हैं. जबकि पिछले 24 घंटे में 298 लोगों की मौत हुई है.

बता दें कि यूपी सरकार ने गुरुवार देर शाम जिलावार हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है.


यह भी पढ़ें: यूपी में अब तीन दिन रहेगा लॉकडाउन, डॉक्टरों का विशेष पैनल बताएगा किसे अस्पताल में भर्ती होना है किसे नहीं


आरटी-पीसीआर की टेस्टिंग घटा दी

प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने मीडिया से बातचीत में यह भी कहा कि सरकार ने यूपी में आरटी-पीसीआर की टेस्टिंग घटा दी गयी है.

उन्होंने सीएम से पूछा कि ‘यूपी के सभी जिलों में कांटैक्ट ट्रेसिंग नहीं हो रही है ऐसा क्यों? कांटैक्ट का आशय है कि जो संक्रमित हैं उनके सम्पर्क में आये लोगों की जांच हो लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है. ऐसा क्यों?’

‘कोविड कंट्रोल रूम के जो नम्बर सरकार ने जारी किये हैं-पिछले दिनों एक आडियो वायरल हुआ था जिसमें कहा गया था कि जाकर मर जाओ. उस पर मुख्यमंत्री स्वतः ट्राई करके देखें कि क्या स्थिति है?’

लल्लू ने कहा कि मुख्यमंत्री को जानना चाहिए कि लोगों को किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं मिल रही है.

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि एसटीएफ ने खुलासा किया है कि रेमडिसिविर इंजेक्शन दस गुने से अधिक दाम पर बिक रह हैं. साथ ही साथ तमाम समाचारपत्रों में विभिन्न जनपदों झांसी, कानपुर, मेरठ, गाजियाबाद, लखनऊ और गोरखपुर में एक-एक लाख में इंजेक्शन बिकने की खबर मीडिया ने प्रकाशित की है लेकिन मुख्यमंत्री इसपर कुछ करते हुए दिखाई नहीं दे रहे हैं.

मुख्यमंत्री किस कुम्भकर्णी नींद में सो रहे हैं?

लल्लू के मुताबिक, ‘अब कोरोना गांव-गांव पहुंच गया है लेकिन सरकार सो रही है. यूपी इंचार्ज प्रियंका गांधी ने सीएम को पत्र लिखकर कई सुझाव दिए हैं, सरकार उन सुझावों को माने और लागू करे.’

वहीं कांग्रेस विधान परिषद दल के नेता दीपक सिंह ने इस भयावह महामारी में योगी सरकार के झूठ की कलई खोलते हुए मीडिया के सामने ही सीएमओ लखनऊ के सीयूजी फोन नम्बर पर अपने फोन से मिलाया जिसका कोई जवाब नहीं मिला.

उन्होंने कहा,  ‘सरकार में दो मंत्री, चार विधायक, सैंकड़ों की संख्या में पत्रकार, डाक्टर, साहित्यकार, आईएएस, स्वास्थ्यकर्मी एवं पुलिसकर्मी सहित हजारों प्रदेशवासियों की कोरोना से दुःखद मौत हो चुकी है, लाखों की संख्या में लोग आक्सीजन, बेड और दवाई के लिए तड़प रहे हैं लेकिन के मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे हैं और हेडलाइन बनाने में व्यस्त हैं.’


यह भी पढ़ें: ग्रामीण जौनपुर में किस वजह से बढ़ा Covid, UP सरकार को 1 लाख संदिग्धों पर आशंका


 

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: